Uncategorized

मिल गया वह टॉयलेट ,जहां राजा महाराजा करते थे

भारत में कुछ साल पहले तक हर घर में टॉयलेट नहीं होता था साधन संपन्न घरों में ही पायलट बना होता था बाकी लोग खेत खलिहान में टॉयलेट करने जाते थे लेकिन अब भारत सरकार ने स्वच्छ अभियान के तहत हर घर में शौचालय का निर्माण करा दिया है !

राजाओं के शाही टॉयलेट! खेतों में नहीं बल्कि अपने ही महलों करते थे ये काम | News Track in Hindi

आपके दिमाग में एक बात जरूर आता होगा कि अगर शौचालय कुछ 10 को से बना है चलन में आया है तो फिर पुराने जमाने के राजा महाराजा शौचालय करने कहां जाते थे!

पुराने जमाने में अगर घर में शौचालय नहीं थे महाराजा -महारानियाँ शौच के लिए कहा जाते होंगे ?

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि पुराने जमाने के राजा महाराजा का टॉयलेट कैसा होता था पहले राजा के रहने के लिए राजमहल होता था जिसमें मुख्य महल के अलावा स्नानघर और शौचालय भी होता था लकी शौचालय महल के अंतिम भाग में बनाया जाता था !

राजस्थान के शाही किले में अभी भी एक शाही टॉयलेट मौजूद है जिसमें राज परिवार के लोग शौचालय करने जाते थे सिंधु घाटी सभ्यता यानी 5000 साल पहले के बनाए गए टॉयलेट के सबूत भी मिले हैं!

 

खुदाई के दौरान टॉयलेट के क्लास वगैरह भी मिले हैं खुदाई ने नालियों का भी पता चला है आप जो तस्वीर देख रहे हैं यह ड्राई टॉयलेट की है जो कि पहले के राजा महाराजा उपयोग करते थे और यह दिखने में कुछ हद तक वेस्टर्न टॉयलेट जैसा होता था!

राजाओं के शाही टॉयलेट! खेतों में नहीं बल्कि अपने ही महलों करते थे ये काम | News Track in Hindi

दिल्ली में सुलभ शौचालय का संग्रहालय भी बनाया गया है जहां पर राजा महाराजा के उपयोग किए जाने वाले और हड़प्पा संस्कृति के दौरान उपयोग होने वाले टॉयलेट सीट को भी संजोकर रखा गया है !

पुराने जमाने में अगर घर में शौचालय नहीं थे महाराजा -महारानियाँ शौच के लिए कहा जाते होंगे ?

इस संग्रहालय मैं रखें टॉयलेट सीट को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि पुराने जमाने के राजा महाराजा भी स्वच्छता के प्रति सतर्क थे एवं टॉयलेट में ही शौचालय करते थे!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button